आज का विचार ‘‘देश‘‘

Share this on :


नमस्कार दोस्तो,
देखिए, हम सब चाहते हैं कि हमारा देश महान बने। चाहते है ना! अगर हम चाहते हैं कि हमारा देश सचमुच महान् बने तो हमें यहाँ आदमी को महान बनने के अवसर देने होंगे और उन सब परिस्थितियों को बंद करना पड़ेगा जिसके कारण इंसान को बार-बार रोका जाता है।
‘‘देश को महान बनाने के लिए हर इंसान को महान बनना होगा‘‘।

                            Country

Good day friends,

We want to make our country great. Isn’t it? It can happen if wecreate opportunities to make every individual great. We must create conducive environment for unhindered progress of every human being.

To make country great, everybody will have to become great.

Prof. Sanjay Biyani 

Share this on :

आज का विचार-‘‘समझदारी‘‘

Share this on :

नमस्कार दोस्तो,

अगर कोई चीज हमें दर्द देती है तो वह दो चीज अपने साथ लेकर आती है। एक तो जख्म और दूसरी समझदारी। यह आप पर निर्भर करता है कि आप इनमें से क्या उठाते है। आप चाहे तो जख्मी हो.. आप चाहे तो समझदार हो…………….पर बात समझदारी से बनती है।

‘‘घाव से समझदारी ले, जख्म नही‘‘

Intelligence/Rationality

Good day friends,

Anything that gives pain brings with it two things: An injury and intelligence. What you pick up is your choice. Either get injured or get intelligent. However, intelligence is any day better.

Prof. Sanjay Biyani

Share this on :

आज का विचार- ‘‘ऊर्जा का प्रवाह‘‘

Share this on :

नमस्कार दोस्तो,

देखिए, इस दुनिया में सबसे बड़ी एक force जो काम करती है वह है, gravitational force  यह हर चीज को नीचे गिरा ही देती है, आप कुछ ना करें आप नीचे आ ही जाएंगे। आप कुछ ना सोचे आपको negative सोचना आ ही जाएगा। लेकिन ऊपर उठने के लिए positive सोचने के लिए, तरक्की करने के लिए अपनी ऊर्जा को नीचे से ऊपर उठाने की कला आपको सीखनी ही होगी………..

‘‘ऊर्जा को उठाने के लिए मनुष्य को प्रयास करने चाहिए‘‘

Flow of energy

A powerful force works round the clock. It is called the ‘gravitational force’. It pulls everything down.

Don’t do anything, and yet you’ll come down. Don’t think anything, and you’ll still get negative thoughts. To rise, progress and think positive, man must learn the art of taking his energies from bottom to the top.

Prof. Sanjay Biyani

Share this on :