Missing Element in education

Share this on :

mising elements


What are missing elements in the career of a student?
I have researched thoroughly and found that the element missing is about the main question, “why we are on this earth, what is the purpose of our life?”I feel if our youth will find the answers for these questions then they can attain whatever they want and won’t depend on anyone for their decisions.
Can we trace missing element problems during the childhood?
Often people encounter some circumstances which mould their behaviour. If someone has faced acute financial crisis then they will grow with an attitude and determination to do something. Now a day’s due to nuclear families parents pamper their children a lot. They are kept away from all struggles of life, which has somehow diluted their vision for future and hence made them depended on others. The day a child will realize on his own what the purpose of his life is, and then there will be no need of any external efforts. The child will find his way successfully.
Which factors in missing element really affect the career of a student?
Firstly of all parents, then students and finally the teachers have to make efforts in creating a burning desire to accomplish their goals which they will realize after understanding the worth of their life. After that it is important to identify the child’s interest and according to that his capability. Like if someone is bearing logical mind should be provided opportunities in logical field and so is for creative thinkers.
What should be done after setting a goal and how it can be accomplished?
Setting a goal is just like preparing boggies for a train because without a powerful engine the train won’t be able to proceed further and hence setting a goal will not be fruitful unless and until the child has burning desire and enthusiasm to accomplish the goal.
Therefore, after setting a goal a child need to put a lot of dedication and hard work to accomplish any goal.

How can we join all the boggies of the train to success as there are various elements like social groups, teachers and parents? Therefore, what kind of preparation is needed on students’ part?
We have never focused on the fact that why we have been on this earth. We have to ask our self that do we live to eat and sleep then what is the purpose of being a human being we can do all that even though if we were animals then why do we have been blessed by human life. And if I’m a human being then I have to prove my worth and accordingly will set the goal of my life. Once such an insight is gained by a student then they won’t be in need of any coaching institute etc.
Secondly the parents can also contribute in the transformation of students for setting their goals. Parents have to poke their wards time to time if they are not conscious enough for their goal. As Lion will never realize its power unless and until someone pokes it otherwise it will be a source of entertainment in the circus and lifelong won’t realize its potential of being the king of the jungle.
How to accomplish the main three steps mentioned above and some tips for success in career?
The most important and powerful trait in human is their burning desire, will power and dedication. Due to these traits Bill Gates, DhiruBhai Ambani, Albert Einstein and other eminent personalities were able to accomplish what they always dreamt of. Purpose of life is missing in students now a day therefore, education is lacking its essence and there is need of teachers and parents continuous efforts to help the students realize the real purpose of their life. Without purpose the life of the students is vague and directionless.

 

Dr. Sanjay Biyani(Dir. Acad.)

To know more about Prof. Sanjay Biyani visit www.sanjaybiyani.com

Share this on :

Inferiority complex @ career

Share this on :

complex


What kind of inferiority complexes are there in students?
Actually it is a disease and is found commonly in youth who have just joined college. They suffer from a strange fear and is an obstacle in their life. A person suffering from inferiority complex always focuses on his/her weakness but never count his/ her strength. In my book “Positive Thinking” I have discussed how in how inferiority complex is a disease and how it hampers a person’s growth.
How can we overcome this complex?
God has blessed everybody with some unique qualities. Some can run very fast, study and understand things very easily but some can’t do the same. Due to such things people grow with inferiority complexes and it haunts them for the entire life.
What is the basic reason a child or a person focus more on negativity?
Its human nature, they prefer to stay in a comfort zone. With time person grows with a fear that what people will think about them. Therefore, they try to hide themselves and prefer to stay aloof. Due to all this the whole energy of a person is focused and utilized on this complex, that how and when people will judge them.
Humans have two options in that context:
First is a person should accept his inferiority complex and should spend their rest of their life with that. Unfortunately, there are 90% people falling in this category.
Second category is of the remaining 10% people who with their hard work, dedication and strong determination overcome their inferiority complexes and learn to excel. That’s why some are not blessed with good voice but are very creative in other ways.

How one can raise oneself to that level where they can achieve the goal that they want to and actually deserve to attain?
I always quote in seminars and discussion one of my thought that, “Only those can win who actually feel that they can win”. The day a person starts focusing his qualities and strengths his attention towards inferiority complex is automatically diverted and they no more suffer due to it. I would like to advise all youngsters that god has blessed them with some unique qualities and traits. They should try to realize them and utilize them in strengthening their personalities and overcoming inferiority complexes. As it blocks energy therefore, we should try to build our superiority power in ourselves.
As a counseling expert you might have identified reasons for inferiority complexes in students. Actually what are the main reasons for inferiority complexes in students?
The main pressure on students is of scoring maximum and attaining first rank in the class. We know practically that is not possible as out of many only one student can top in the class and due to which automatically other students will suffer from inferiority complexes. Actually, this is a matter to be reconsidered by the education system as how can scoring in an exam depict a student’s excellence or strength in a specific subject.
It is an innate capacity of each student to learn or use logical reasoning. Therefore, students have to be very conscious while choosing for career courses, keeping in view their strengths and interests. And if students really follow it then they can attain success in all ways.
What will be your advice for students for dealing with inferiority complexes and who can be the best influence for students in realizing that they should not rate themselves inferior than others?
For students only two people are more concerned:
 Parents
 Teachers
For both parents and teachers the students should have complete trust. The students have to devote themselves completely to both parents and teachers to learn in an effective and efficient way. A person can realize their strength after that only they can be successful. Specifically girls have to realize their power and strength so that they can prove their worth and make remarkable place in society.

 

Dr. Sanjay Biyani(Dir. Acad.)

To know more about Prof. Sanjay Biyani visit www.sanjaybiyani.com

Share this on :

Law of Karma and Success in career

Share this on :

karma


What is Law of Karma?
The word “Karma” has been in our holy books and is considered to be the most powerful law in the whole universe. We all pray to Lord Ganesha, to start our day or new work. Lord Ganesha actually explains or signifies the law of karma. The right hand of Lord Ganesha is in the position of performing an action and left hand reflects reaction.
Therefore, Law of Karma is somehow performing actions without attaching our self with its outcomes or reactions.
How can we relate Law of Karma in career and what is its role in shaping career?
Our youth usually can’t focus on work for long duration of time and hence often gives up easily. Therefore, they need to be taught the importance of this law and how to implement it in shaping their successful life and career.
We can make our career successful by applying law of karma. Elaborate the statement?
Any student appearing for exams focuses his 50% energy on results. Therefore, his actions are half dissolved with the tension about the reaction or results of his performance, because of his attachment with action reaction chain. For example, while watching 20-20 cricket mostly people get excited when their favorite team or player scores well and feel disappointed when their teams loses wicket. So, they should only enjoy good game and should not get attached to any specific team or player. This way they can enjoy their time, game and hence can enhance their energy. But unfortunately, we all focus on results and gets disappointed whenever they are not as per our expectations. We should accept and adopt Law of Karma as narrated by Lord Krishna, which states that, we have to get detached with the results and keep doing the needful action consistently. We have to make our actions as our true religion and then that attitude can help us in attaining internal peace and satisfaction.
How one can perform action in right direction?
Whenever we start any work, it should be started with complete faith and hope that we will be successful as we are the powerful creation of god, blessed with intellect, heart, emotions and courage to do anything.
So, we should start any work we do with positive attitude, belief and hope. Also at the same time following the right direction according to one’s interest and doing action consistently is also very important. The luck factor is against law of Karma. It has never been prescribed in any inscriptions of any religion that one should focus on luck only.
A person who has adopted law of karma completely will be successful and will always lead towards their goals effectively.
Being a counselor you must have interacted with many people, what do you think how many people actually believe and apply law of karma?
Usually everybody believes in destiny than on law of karma. It s a universal truth that whatever action we do on this earth will bear its reaction for sure. Like if we plant a tree or cut a tree both ways the action will be followed by a reaction definitely. There is no such action in this universe which is not followed by a specific reaction.
We all celebrate “Jnamasthmi”, the birth of Lord Krishna, every year but unfortunately hardly anybody actually realizes the essence of his teachings. Lord Krishna defined law of karma in beautiful words,
“Karmanye Vadhikaraste, Ma phaleshou kada chana,
Ma Karma Phala Hetur Bhurmatey Sangostva Akarmani”.
That means that we have the right to perform our actions, but we are not entitled to the fruits of the actions. Also, we don’t have to let the fruit be the purpose of our actions, and therefore we won’t be attached to not doing our duty.
Therefore, the awareness has to be created within us for inculcating the law of karma in our lives.
What is the best way of overcoming the habit of blaming luck for every failure?
The only best way is to accept karma as the true religion, follow a right direction and keep doing the requisite action. I believe we can extract water from the desert if we believe that we can do it. Failure should never be denied as it comes with some learning experience. This learning is actually living life in true manner.

 

Dr. Sanjay Biyani(Dir. Acad.)

To know more about Prof. Sanjay Biyani visit www.sanjaybiyani.com

Share this on :

Career & Gandhigiri

Share this on :

career & gandhigiri


How Gandhigiri can be related to Career?
I think only bookish knowledge is not a complete education. If someone asks me what education is, then I will say that in the ocean of knowledge, education is just a drop. Education is not to become an Engineer, doctor or a CA, but it is different as it is the development of overall personality.
According to Gandhiji we should never see speak or listen bad things but in terms of career how such things can be implied?
Actually Gandhiji doesn’t mean that we should totally discard bad things but what he meant was that to increase or enhance good things. The influence of bad is reduced when it is overcome by things. If you have to make a choice between positive & negative we should chose positive things because whatever we think more actually happens in reality. That’s why we should think & act positively.
How Gandhiji’s journey from a common man to Mahatma can influence a student in shaping his career?
Gandhiji had all experiences which a common man would have in his life. Gandhiji transformed because of his changed company of people, literature and surroundings. In jail Gandhiji read one chapter of Bhagwad Gita daily and wrote its interpretations in his dairy and hence applied it altogether.
Hence, the personality of Gandhiji was thoroughly changed & transformed. So, our students should firstly check their company and then if needed should change it. Hence our youth can be successful if they improve their self with improved people.
Which message from Gandhiji’s life will you give to youths for staying away from bad people?
For youth I would like to suggest following two main things:
 Change your company.
 Accept truth in all ways.
Now a day’s youth are engulfed in the bad habit of being deceitful. Our youth should learn to accept truth and apply it in life and hence then they can have good career.

 

Author:Dr. Sanjay Biyani(Dir. Acad.)

To know more about Prof. Sanjay Biyani visit www.sanjaybiyani.com

Share this on :

Career and Women Empowerment

Share this on :

women

What is your opinion about Women Empowerment?
We are from a country of 130 crore population, where half of the men and women make the major part of the population. Till now the human resource in our country has not been explored. There is a tremendous scope in women empowerment to explore the huge human resource and to enhance it as it will ultimately lead to the success of the nation.
I would like to convey all parents that their heart is going to be healthy forever if they have daughters because only daughters are capable enough to understand emotions & feelings.
List some weakness in female which actually make the lag in society & how to overcome them?
I will explain first the weakness of males, they have ego problem a lot which leads to anger, frustration, improper decision making & ultimately to brain hemorrhage. If males have to overcome this problem they have to replace ego with humbleness. In females, they have a weakness of jealousy, which hampers their emotional strength and I feel this should be overcome and hence they can excel in life.
In the coming time how much future prospectus will grow for females and how they need to prepare for it?
Females have strong dedication for any work whichever is assigned to them. Fields like hospitals, aviation, hotels, educational institutes etc. need ample amount of dedication and hence women can excel there very well. There are similarly many more fields where women can prove their worth.
What should be the real empowerment of women?
Today also females are exploited. Newly married girls are not treated well and are dominated by in laws because she is dependent on them. She has to compromise for everything & hence can’t take decisions. I think if a female is financially independent then she can be empowered in reality. Therefore, we would like to convey it to all parents that if you want to give your daughter something, give her good professional education and encourage her to be financially independent.
I would like to request all fathers that don’t make your daughter like a moon so that people stare her continuously but make her like a sun so that anybody who dares to stare will blink and won’t be able to stare her. That means empower her with knowledge & make her financially independent, so that people will not dare to mistreat them.

 

Author:Dr. Sanjay biyani(Dir.Acad.)

To know more about Prof. Sanjay Biyani visit www.sanjaybiyani.com

Share this on :

LAW OF ATTRACTION

Share this on :

LAW OF ATTRACTION

 

प्र.1 Law of attraction की थ्योरी क्या है?
उत्तर :
ये बहुत ही रूचिकर थ्योरी है और ये थ्योरी ग्रेविटी थ्योरी जैसी ही है और चाहे हम माने या ना माने, ये अपना काम करती है। मैं ऐसा महसूस करता हूँ कि हमारी ैवबपमजल में जो यह समस्याएँ आ रही हैं, जैसे – महिलाओं को लेकर जो समस्याएँ आज समाज में व्याप्त हैं, ये कहीं ना कहीं हमारी ही कमी है। क्योंकि हमारी सोच नकारात्मक होती जा रही है। तो हमारे साथ घटनाएँ भी नकारात्मक ही घटित हो रही हैं और परीक्षा के दौरान भी यह देखा जाता है कि कुछ लोग तो कम पढ़ कर भी अधिक अंक ले आते हैं। इसके विपरीत कुछ लोग दिन भर पढ़ने के बाद भी कम अंक प्राप्त कर पाते हैं। इसीलिये यह विषय है आपकी भावनाओं का आपके संवेग का और आपकी सोच का । तो जितनी आपकी सोच सकारात्मक होगी उतना ही परिणाम भी सकारात्मक होगा।
प्र.2 क्या Law of attraction की थ्योरी वैज्ञानिक है या सिर्फ मानसिकता बदलने अथवा सकारात्मकता लाने का एक जरिया मात्र है?
उत्तर :
यह एक बहुत ही अच्छा प्रष्न है क्योंकि लोग इसे एक आदर्ष बात मानते हैं। लेकिन यहाँ मैं लोगों को बताना चाहूँगा कि यह कोर्इ आदर्ष नहीं बलिक इसके पीछे विज्ञान है। इस बात को सत्यापित करने के लिए मैनें शरीर की संरचना पर काफी अध्ययन किया तो मैंने पाया कि हमारे पूरे शरीर में से हमारा सिर्फ मसितष्क 2 से 3 सेमी. आकार का है और हमारे षरीर की ऊँचार्इ लगभग 5.5 से 6 फीट होती है तो समस्या ये उत्पन्न होती है कि हम जब भी कोर्इ चीज सोचते हैं तो इससे हमारी सोच का एक पैटर्न बनता है जिसे हम इलैक्ट्रो मैग्नेटिक वेव्स भी कहते हैं और देखा जाये तो भौतिक विभान में भी इस पर काफी काम हो रहा है। इसे क्वान्टा फिजिक्स भी कहा जाता है। क्वान्टा अर्थात बहुत छोटा नैनो पार्टिकल। हम जो भी सोच रहे हैं तो हमारी सोच की तरंगें नियमित रूप से घूमती है। कभी वो आपस में मिल जाती हैं तो कभी एक दूसरे से अलग हो जाती है। इसी तरह यह प्रक्रिया नियमित रूप से चलती रहती है। इसका मतलब हमारे शरीर की सबसे ताकतवर व मजबूत मषीन, हमारे मसितष्क से इलैक्ट्रो मैग्नेटिक तरंगे निकलती हैं जो हमेषा घूमती हैं और हमारी ये सोच की तरंगेें जो इलैक्ट्रो मैग्नेटिक तरंगों के रूप में घूम रही हैं। अपनी समकक्ष समान आवृत्ति वाली तरंगों को ढूंढती हैं इसीलिये मनुष्य आम जिन्दगी में अक्सर यह बोलते हैं अभी-अभी यह काम सोचा और वो हकीकत में पूरा हो गया। तो यह सिद्ध होता है कि यह कोर्इ आदर्ष नहीं बलिक पूरी तरह विज्ञान द्वारा सत्यापित है।
प्र.3 करियर में ये थ्योरी कैसे इम्पीलमेंट होती है ? और ये पूरी प्रक्रिया कैसे काम करती है?
उत्तर :
करियर की बात करें तो आप देखेंगे कि बहुत से लोग प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी में व्यस्त हैं उनमें कुछ CA बनना चाहते हैं तो कुछ CS, कोर्इ बैंक की तैयारी कर रहा है तो कोर्इ टीचर बनना चाहते हैं। इनमें से कोर्इ ना कोर्इ किसी परीक्षा की तैयारी में लगा है। इन सबमें सबसे महत्त्वपूर्ण बात यह है आपका किसी बात को सोचने का तरीका कैसा है? क्या आपको लगता है कि परीक्षा में पेपर सिलेबस से बाहर का आयेगा। या फिर आप अनुभव करते हैं कि आपका पेपर अच्छा नहीं होने वाला है। या फिर अपनी याददाष्त कमजोरी होती महसूस समझते हैं। चाहे आप कुछ भी नकारात्मक सोचें पर मानके चलिये इन सब बातों से आपका ऊर्जा स्तर कम ही होता है। अगर आप सकारात्मक सोचेंगे तो आप अधिक ऊर्जावान बनेंगे आपके विचारों में भी ऊर्जा ही रहेगी। इसीलिये व्यावहारिक जीवन में आपने बहुत से लोगों को कहते हुए सुना होगा कि हम जो सोचते हैं वही परीक्षा में आ जाता है। इसके विपरीत कुछ कहते हैं कि जो सोचा, कभी नहीं आया। इसलिये मुझे यकीन है कि यदि आप सकारात्मक सोच रखेंगे तो आपके विचार सही दिषा में कार्यानिवत होंगे और जीवन में आप अधिक अर्जित कर पायेंगे।


प्र.4 क्या इस थ्योरी का कोर्इ व्यकितगत अनुभव या कोर्इ उदाहरण है, जो आपके साथ हुआ हो या आपने होते देखा हो ?
उत्तर :
जी हाँ, अगर किसी भी अनुभवी व्यकित का जिक्र करें तो वो आज जिस भी स्तर पर पहुंचे, उसे सोचने व उस पर अमल करन के बाद ही पहुंचे। हम जिनके बारे में सकारात्मक सोचते हैं वो चीजें हमार आसपास आने लग जाती हैं। यहाँ मैं आपको अपने जीवन का उदाहरण देना चाहूंगा। मैं बचपन से ही किताब लिखने में इच्छुक था। तो मैंने 15 से भी अधिक अलग-अलग विषयों पर किताबें लिख डाली क्योंकि मैं लिखना चाहता था और सोच का ये पेटर्न मैं अपने मसितष्क में विकसित कर रहा था। बावजूद इसके मैं मध्यम वर्ग परिवार से था, फिर भी मैं हमेषा सपने देखता था कि मैं समाज में एक उधमी के रूप में अपनी एक अलग पहचान कायम करूंगा और मैं भी समाज में व्याप्त बेरोजगारी को दूर करने के लिए अपने निर्देषन में दूसरे व्यकितयों का काम दूंगा। और आज आप देखेंगे कि मैं जो सोचता था वो मेरा सपना सच हो गया। अब एक अहम बात ये है कि इस स्ंूष्वषिजजतंबजपवद की थ्योरी में क्या सिर्फ आपके विचारों का ही महत्त्च है । तो मैं आपको बता दूं कि इसमें सिर्फ विचार ही नहीं बलिक विचारों के साथ भावनाएं भी अपना महत्त्वपूर्ण स्थान रखती हैं। और जब विचारों व भावनाओं का संयोजन होता है तो आपकी सोचने की आवृत्ति शकितवान हो जाती है। पर यदि आप बात तो अच्छी कर रहे हैं लेकिन आपको अनुभव अच्छा नहीं हो रहा है इसमें एक चीज सकारात्मक व दूसरी नकारात्मक है। और गणितीय नियम के अनुसार सकारात्मक और नकारात्मक को मिलाने पर परिणाम नकारात्मक ही आता है। तो जैसा आपका सोचने का तरीका होगा आपको अनुभव भी वैसा ही करना पड़ेगा।
प्र.5अगर यूथ इस ला को अपनाना चाहे तो इसे कैसे प्रयोग करना चाहिए कि उन्हें इसके जरिये कामयाबी मिले?
उत्तर :
ये निषिचत रूप से यूथ के लिये बहुत महत्त्वपूर्ण है अगर वो इसे समझ जायेंगे तो मेरा मानना है कि उनके करियर की राह बहुत ही आसान हो जायेगी। व्यकितगत रूप से इस ला को उपयोग करने के कुछ स्टेप्स हैं जिनका अनुसरण करके हम कामयाबी की तरफ बढ़ सकते हैं और अपने सपनों को हकीकत में बदल सकते हैं। इसे प्रयोग करने के चार स्टेप्स हैं जिन्हें यदि अपनाया जाये तो आप जो सपना देख रहे हैं, वो एक दिन जरूर साकार होगा। अगर इसे प्रमाणित करना हो तो आप किसी विशेषज्ञ व सफल व्यकित से पूछेंगे तो पायेंगे कि उन्होंने भी जीवन में कामयाब होने के लिये यही चार काम किये होंगे जिनकी वजह से उन्होंने अपने जीवन में अपने लक्ष्य को प्राप्त किया।
सूत्र नं.1 : अपने उद्देश्य को निर्धारित व स्पष्ट करें –
सबसे पहले अपने सपने को, अपने उद्देश्य को निर्धारित करें। पूर्ण रूप से उसे स्पष्ट करें उसमें किसी भी प्रकार के संदेह की आषंका ना हो। उदाहरण के लिये यदि आप किसी कम्पनी के ब्थ्व्ष्बनना चाहते हैं तो पहले कम्पनी का ढांचा आपके मसितष्क में स्पष्ट होना चाहिए कि किस सेक्टर की कम्पनी में आप जाना चाहते हैं यह पूर्ण रूप से आपको पता होना चाहिए। इसी प्रकार यदि आप किसी भी क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो पहले उसे अपने मसितष्क में दृढ़ करिये फिर ही उस दिषा में आगे बढि़ये। क्योंकि ये ब्रह्रााण्ड आपकी भाषा व संस्कृति को नहीं समझता। आपकी अस्पष्ट सूचनाएँ वहां तक नहीं पहुंच पाती हैं। हाँ लेकिन ये ला आपके मसितष्क में जो उद्देश्य रूपी छवि जो उत्पन्न हुर्इ है और स्पष्ट भी है तो उसे जरूर समझता है।
सूत्र नं. 2 : उद्देश्य को लिखना –
जब आपके मसितष्क में आपके उद्देश्य स्पष्ट हो जाये तत्पश्चात उनको लिखा जाना अत्यन्त आवश्यक है। और अपने शरीर की सबसे शकितशाली उपकरण मसितष्क को इसे बार-बार दिखाइये कि यह मेरा उद्देश्य है, मैं इसे पाने के लिए उत्साहित हूँ और मैं इसे जीवन में हासिल करके ही रहूँगा। इसे अपने सामने उस हर जगह लगा डालिये जहाँ से यह आपको बार-बार दिखार्इ दे और आपके मसितष्क में उसे देखकर हलचल हो।
सूत्र नं. 3 : मानस दर्षन अर्थात विज्यूलाइजेषन –
आपके अपने उद्देश्य का मानस दर्षन करना है उसे लेकर कल्पना करनी है कि आपने उसे अपने जीवन में प्राप्त कर लिया है और अधिक से अधिक उसे महसूस करना है ताकि उससे संबंधित संवेग व भावनायें आपमें उत्पन्न हो और उसे पाने के लिए आपके अन्दर एक जाष बना रहे।
सूत्र नं. 4 : प्रयत्नपूर्वक रहिए –
आपके अपने उद्देश्य को पाने के लिए हमेषा प्रयत्नपूर्वक रहना चाहिए। आपके उद्देश्य के लिए किये गये प्रयत्न ही आपको सफलता दिलाने का जरिया बनते हैं। उदाहरणार्थ अगर आपको विदेष जाना है तो जब तक आपका पासपोर्ट नहीं बनेगा तब तक आप जा नहीं सकते। इसीलिये ये बहुत महत्वपूर्ण सूत्र है। आपके प्रयासों में सच्चार्इ व र्इमानदारी होनी चाहिए। आपको खुद पर एक अटूट विष्वास करना चाहिए कि हाँ ये काम आप कर सकते हैं। कभी-2 किन्हीं परिसिथतियों में आपको आत्म प्रेरित भी होना पड़ सकता है।
ये वो चार सूत्र हैं जिन्हें अपनाकर आप जीवन में कामयाबी हासिल कर सकते हैं व सफलता की ऊँचार्इयों को छू सकते हैं।
प्र.6 हम अपने जीवन में कर्इ कुछ चीजों को लेकर बहुत कल्पना करते हैं लेकिन उसे प्राप्त नहीं कर पाते। क्या कुछ ऐसी चीजें भी हैं जो हमें नही करनी चाहिए?
उत्तर :
इस पूरी प्रक्रिया के दौरान आपको एक ही काम है जो नहीं करना है – नकारात्मक सोच! आप जितना हो सके अपने आपको नकारात्मकता से दूर रखें। आपको सिर्फ सकारात्मक ही बने रहना है और जीवन में सकारात्मकता बढ़ाने का एकमात्र उपाय कृतज्ञता है। और सिर्फ एक षब्द शुक्रिया आपके पूरे जीवन को सकारात्मक बना देता है। जैसा मैनें पहले भी जिक्र किया है कि हर समय ये अनुभव करिये कि आप बहुत ही आभारी हैं, सौभाग्यषाली हैं कि आप मनुष्य बने और आपमें अपने लक्ष्य को पाने की काबिलियत है।
इस प्रकार आप अगर इन चारों सूत्रों को अपनायेंगे तो अधिक सकारात्मक बन सकेंगे और मुझे लगता है कि आपको वो चीजें मिल ही जाती हैं जिनकी कभी आपने कल्पना की थी। आप अधिक ऊर्जावान बन जाते हैं। वाकर्इ ये प्रक्रिया यदि कोर्इ व्यकित अपने जीवन में अपनाता है तो उसका ना सिर्फ करियर बलिक जीवन भी सरल व उíेष्यपूर्ण बन जाता है।
मैनें जो सुझाव आपको दिये हैं उसे जीवन में र्इमानदारी से अपनायें, अच्छा सोचें व थोड़ी मेहनत करें। मैं यकीन के साथ कहता हूँ कि आपको जिन्दगी में वो मुकाम हासिल होगा जिसकी आपने ख्वाहिष की है।

धन्यवाद !!!

 

To know more about Prof. Sanjay Biyani visit www.sanjaybiyani.com

Share this on :

करियर काउन्सलिंग व कोचिंग

Share this on :


प्र.1 करियर काउन्सलिंग व कोचिंग का क्या अर्थ है? क्या ये दोनों चीजें एक हैं या एक-दूसरे से अलग हैं?
उत्तर :
सबसे पहले तो मैं आपको बता दूं ये जो समय है ये यूथ के लिए बहुत ही उपयुक्त है क्योंकि हर यूथ इस समय अपने करियर को लेकर चिनितत है और कुछ न कुछ बनना चाहता है, जीवन में अपने लक्ष्य की ओर बढ़ना चाहता है। इस सिथति में उनके लिए करियर काउन्सलिंग व कोचिंग को समझना बहुत ही जरूरी हो जाता है। इसके लिए सबसे पहले तो हमें काउन्सलिंग व कोचिंग का सही अर्थ जानना होगा। क्योंकि अधिकांषत: हम इन दोनों ही शब्दों को एक-दूसरे की जगह बदल देते हैं तो यहाँ मैं स्पष्ट कर दूं काउन्सलिंग एक बहुत ही छोटी प्रक्रिया है वरन कोचिंग काउन्सलिंग की तुलना में लम्बा मार्ग है।
काउन्सलिंग के बारे में यह कहा जा सकता है कि यह 15 मिनट, ) घंटा या अधिक से अधिक 1 घंटे की गतिविधि है। इसी आधार पर कहा जा सकता है कि ये बहुत ही छोटी प्रक्रिया है। इसके विपरीत कोचिंग एक लम्बी गतिविधि है या यूँ कहिए एक लम्बी तकनीकी व अधिक समय लेने वाली प्रक्रिया है। पर चूँकि बात आपके करियर की है तो ये किसी भी यूथ के लिए इतना महत्वपूर्ण है कि इसमें समय तो अधिक लिया ही जा सकता है जिसके द्वारा ही अपने भविष्य की रूपरेखा बना सकते हैं।
प्र.2 करियर काउन्सलिंग व कोचिंग देानों में से अधिक महत्वपूर्ण कौन है ?
उत्तर :
इसे समझने के लिए हमें सबसे पहले अपने करियर को समझना पड़ेगा क्योंकि करियर किसी भी विधार्थी के लिए बहुत अहम होता है क्योंकि करियर के आधार पर ही यूथ अपनी आगे की तीस, चालीस, पचास साल व पूरा जीवन निषिचत करते हैं। तो यह एक बहुत ही लम्बी प्रक्रिया है। और ये कोर्इ छोटी नहीं वरन बहुत ही लम्बी और महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। क्योंकि किसी भी यूथ के करियर इतना महत्वपूर्ण है कि जिस पर उसका भविष्य निर्भर करता है और यह निर्णय पूरे जीवन में सिर्फ एक बार ही लिया जाता है तो मेरा मानना है कि इस निर्णय को बहुत ही सोच समझ कर लिया जाना चाहिए। अन्यथा उनके भविष्य पर इसके नकारात्मक प्रभाव पड़ सकते हैं।
प्र.3 आपने बताया कि करियर कोचिंग बहुत ही लम्बी प्रक्रिया है तो इस प्रक्रिया में कोर्इ एक कोच हमें भविष्य के सम्बन्ध में मार्गदर्शन देते हैं या एक से अधिक कोच हमें सलाह देने के लिये उपलब्ध होते हैं?
उत्तर :
यह बहुत ही रूचिकर बिन्दू है क्योंकि कोच जो हैं वो हमारे आस-पास ही मौजूद होते हैं लेकिन उन्हें पहचान नहीं पाते हैं और मैंने यह महसूस किया है जीवन में एक व्यकित के चारों ओर उसका कोच हर वक्त उपसिथत होता है लेकिन वो उसे देख नहीं पाता । चाहे बात करें हम किसी भी महान शखिसयत जैसे कि हमारे पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम साहब उनके पास भी यही चोर कोच थे जिन्होंने उन्हें सही मार्गदर्षन दिया और जिनकी वजह से ही वो आज इस मुकाम तक पहुंचे। ठीक उसी तरह हर यूथ के जीवन में यही चारों कोच मौजूद होते हैं।


आज मैं आपको बाताऊंगा कि ये चार कोच कौन-2 से हैं –
कोच नं. 1 – एक व्यकित खुद अपना सबसे बड़ा कोच होता है।
कोच नं. 2 – व्यकित के माता-पिता भी उसके लिए कोच की ही भांति ही होते हैं। क्योंकि बचपन में भी उन्हीं की अंगुली पकड़ कर वो जीवन में चलना सीखते हैं
कोच नं. 3 – हर व्यकित के षिक्षक भी उसके कोच ही हैं क्योंकि हम जीवन में उनके बिना भी आगे नहीं बढ़ पाते।
कोच नं. 4 – किसी भी व्यकित के मित्र भी उसके कोच के समान ही हैं।

तो ये हैं वो चार कोच जो हमेषा व्यकित के साथ होते हैं और अगर इन चारों को सही तरह से सदुपयोग किया जाये और उनकी बराबर मदद ली जाये तो मुझे लगता है हम हर समस्या का समाधान ढूंढ सकते हैं और अपनी रूचि, मेहनत व लगन द्वारा अपना सही करियर विकल्प भी चुन सकते हैं।
प्र.4 जब विधार्थी भ्रमित होते हैं तो सलाह मांगने काउन्सलर के पास जाते हैं लेकिन जब विधार्थी खुद ही कोच हैं तो भ्रम क्यों?
उत्तर :
देखिये भ्रम वहां उत्पन्न होता है जहां पर स्पष्टता तथा निषिचतता नहीं होती है इसके लिए विधार्थियों को स्वयं ही अपने जुनून व रूचि को तलाष करना पडे़गा। इस तलाषी में निषिचत रूप से दूसरे लोग उनकी मदद करते हैं। और सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है कि एक विधार्थी को यह मालूम ही नहीं होता कि कितने करियर विकल्प उनके पास उपलब्ध हैं । सबसे पहले तो वो खुद उस पर काम कर सकता है। फिर मदद ले सकता है अपने माता-पिता की जो उससे कुछ कोर्सेस के बारे में जानकारी देंगे। इसके बाद फिर वो मदद ले सकता है अपने षिक्षकों की जो करियर से संबंधित कुछ नर्इ बातों पर प्रकाष डालेंगे। इसके बाद फिर बारी आयेगी उसके मित्रों की। तो इस तरह से वो एक लम्बी सूची तैयार कर सकता है। इसके बाद वो इसे विस्तृत रूप से स्पष्ट कर सकता है। इस तरह से ये प्रथम सीढ़ी होगी जिनमें अप्रत्यक्ष रूप से ये सभी लोग उसकी मदद करेंगे। उसके बाद धीरे-धीरे ये सब छोटे समूहों में वर्गीकृत किये जाते हैं। और सभी के विकल्पों को मिलाकर लगभग 40-50 विकल्प विधार्थी के समक्ष उपलब्ध हो जाते हैं जिनको सबसे पहले पहचाना जाता है फिर उनका मूल्यांकन किया जाता है। इसके बाद व्यावसायिक विषेषज्ञों को ढूंढा जाता है और जब यूथ उन्हें देखेगा, उनकी जीवन शैली से परिचित होगा और उनसे जाकर मिलेगा, उनसे बात करेगा तो करियर संबंधी जितने भी भ्रम उसके मसितष्क में चल रहे हैं तो उन सभी सवालों के जवाब उसे मिल जाते हैं।
प्र.5 एक संदेह हमेषा विधार्थियों के मन में रहता है कि उन्हें कौनसा विकल्प चयन करना चाहिए और वरन पूरी प्रक्रिया में अपने कौशल को व खुद को पहचानना भी उतना ही महत्वपूर्ण है लेकिन खुद के कौषल को लेकर ही यूथ में जो संदेह उन्हें वे कैसे दूर करें?
उत्तर :
मुझे लगता है कि सबसे पहले विधार्थी ये मालूम कर लेना चाहिए कि उसके पास विभिन्न कौन-कौन से विकल्प उपलब्ध हैं। उसके बाद उसे उन सब लोगों से मिलना पड़ेगा जो उसके विकल्प से सम्बन्ध रखते हैं। मान लीजिए कि आप इंजीनियर बनना चाहते हैं सबसे पहले आपको इस क्षेत्र का चयन कर उन सभी इंजीनियरों से व्यकितगत रूप से मिलना पडे़गा। इसी प्रकार यदि आप प्रषासनिक सेवा में जाना चाहते हैं तो आप उन सभी प्रषासनिक अधिकारियों की जीवन शैली को भी देखना पसंद करेंगे और आप व्यकितगत रूप से यह अनुभव करना चाहेंगे कि मैं यहाँ आरामदायक अनुभव कर रहा हूँ नहीं या नहीं, ठीक इसी प्रकार कोर्इ पत्राचार की लाइन में जाना चाहता है तो उसे स्टूडियो जाकर वहां के माहौल से परिचित होना पडे़गा क्योंकि व्यकित को अपनी रूचि का अनुमान तो खुद ही लगाना पड़ता है। हर व्यकित खूबसूरत व अलग तरह का है। यदि हमें भी जीवन में अवसर प्राप्त हों तो हम अपनी रूचि अनुसार सही विकल्प का चयन कर सकते हैं। इसी प्रकार 40-50 तरह के विकल्प जब हम ढूंढते हैं तो उनके बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी अर्जित कर लेते हैं तब हम अपने माता-पिता व षिक्षकों की सहायता ले सकते हैं फिर हमारे लिए जरूरी है हमारे करियर विकल्प से संबंधित व्यकितयों से मिलें तथा उस वातावरण के बारे में जान लें। तो इस प्रक्रिया को अगर व्यवसिथत ढंग से पूरा किया जायेगा तो यूथ अपनी सिथति को पहचान पायेंगे और अपनी सभी शंकाओं का समाधान उनके पास होगा और आप स्वयं संतुषिट का अनुभव करेंगे।
प्र.6 जैसे कि आपने बताया कि करियर कोचिंग एक लम्बी प्रक्रिया है तो इसे न्यूनतम किस आयु से शुरू कर दिया जाना चाहिए कि हम समय रहते श्रेष्ठ निर्णय ले सकें?
उत्तर :
देखिये किसी ने खूब कहा है कि जब जागो तभी सवेरा आपको जब से यह प्रक्रिया समझ में आ जाये तभी इसकी षुरूआत कर देनी चाहिए। और पूरे उत्साह से इस कार्य में लग जाना चाहिए। क्योंकि एक तरह से देखा जाये तो ये एक छोटे अनुसंधान कार्य की भांति ही है। जिसमें आपको खुद पहले करनी होती है। कुछ चीजें अपने करियर से संबंधित पता लगानी होती हैं। स्वयं को पहचानना होता है। आपको स्वयं ही लोगों से जाकर मिलना होता है और करियर से संबंधित सूची भी आपको स्वयं ही तैयार करनी पड़ती है। या यूँ कहिए कि यह एक विधावाचस्पति कार्य की भांति ही एक छोटा अनुसंधान कार्य है। और यूथ को अपनी रूचि का पता लगाना है। क्योंकि मुझे समाज में सबसे बड़ी समस्या से अनुभव होती है, अधिकांषत: 60 से 70 प्रतिषत लोग वो काम करते हैं, जो वो नहीं करना चाहते थे। इसी कारण वो लोग काम करते-2 भी निराषा का अनुभव करते हैं तथा दूसरों से र्इष्र्या करने लगते हैं। और अपने काम में आनन्द की अनुभूति नहीं कर पाते। समाज में लोगों की यह धारणा है कि अगर वे सरकारी नौकरी में जायेंगे तो अधिक सफल बन जायेंगे। पर हकीकत ये है कि किसी भी नौकरी को करने से व्यकित सफल नहीं बनता बलिक उसे खुषी से करने से सफल बनता है। इसीलिये अपनी रूचि व षौक को पहचानना युवाओं की आज की सबसे बड़ी जरूरत है। और यहीं हम लोग गलती कर रहे हैं। और इसका महत्व नहीं समझ पा रहे हैं। दूसरों के कहने पर अपने जीवन के निर्णय ले रहे हैं। और हम दूसरों के बल पर ही सुरक्षित होना चाहते हैं। सबसे पहले इसीलिये हमें खुद का जानना व पहचानना होगा तभी हम अपने जीवन से संबंधित सही निर्णय ले पायेंगे।
प्र.7 करियर कोचिंग प्रक्रिया की षुरुआत कहाँ से व कैसे होनी चाहिए? कैसे यूथ अपने कोच को पहचाने, अपने कौषल को पहचाने? तथा इसके लिए कौनसी प्रक्रिया अपनाये ?
उत्तर :
मुझे लगता है कि 9 व 10 की आयु कोचिंग प्रक्रिया की शुरुआत के उपयुक्त है। क्योंकि 11 में उन्हें 3 या 4 विकल्प में से एक का चयन करना पड़ता है। इसीलिये 11 से पहले दो साल पूरा उपयुक्त तरीके से इस पर काम कर लिया जाये तो उन्हें अपने लिये सही व उचित विकल्प का ज्ञान हो जाता है। विधार्थी उनके बारे में पूरी सूचनाएँ आसानी से एकत्रित कर सकते हैं। देखा जाये आज हर क्षेत्र में इतने विकल्प हैं जैसे – इंजीनियरिंग में, पत्राचार में, वाणिज्य में, प्रबन्ध में, मेडिकल में जहाँ देखिये वहाँ इतने विकल्प फैले हुए हैं कि अगर इनकी एक सूची तैयार की जाये तो हम पायेंगे कि इनकी संख्या 400 से भी ज्यादा है। और इन विकल्पों को जानना तथा इन पर काम करना ये पूरे दो साल की गतिविधि है। इसीलिये मैं सोचता हूँ कि अगर विधार्थियों द्वारा 9 व 10 में ही ये काम षुरु कर दिया जाये तो उनके भविष्य के लिए यह बहुत ही अच्छा है। और अगर अज्ञानतावष विधार्थी 9 व 10 में ना शुरू कर पाये तो 11 की आयु में भी उनके लिए देर नहीं हुर्इ है। बस देर है उनके बारे में जानने की और उन्हें पहचानने की, वैसे भी देखा होगा आपने कि लोग अपने करियर में परिवर्तन लाते ही रहते हैं। और 3-4 सफल बाद वापिस उस सिथति में आ जाते हैं जहाँ से उन्होंने शुरूआत की थी।
इसीलिये दिखावे में ना रहे कि उसने ये काम किया है तो मैं भी ये कर लूं। अपनी पसन्द व अपने जुनून को पहचाने व उसी अनुसार विकल्प चुनें। मुझे पूर्ण विष्वास है कि कामयाबी आपके कदम चूमती नजर आयेगी।

धन्यवाद !!!

Share this on :

मीडिया का कार्य सत्य को समाज के सामने रखना है परंतु हमें सबसे पहले सत्य को ही समझना होगा

Share this on :


क्या कभी हमने सोचा है कि हमारे मन मे डर क्यों रहता है क्यों व्यवसाय करना खतरे का काम लगता है क्यों लगभग हर महिला स्वयं को असुरक्षित समझने लगी है क्यों माता.पिता अपने बढ़ते हुए बच्चे के भविष्य को लेकर आशंकित है क्यों हम एक दूसरे की मजबूरी का फायदा उठा लेना चाहते है क्यों चिकित्सा सुविधाएं बेहतरीन होने के बावजूद भी हमारी औसत आयु बेहतर नहीं हो पा रही है क्यों हमारे देश मे भ्रष्टाचार तेजी से बढ़ता ही जा रहा है क्यों हमारी अदालतों मे मुकदमे तेजी से बढ़ते ही जा रहे हैं इन सबके मूल मे जाएंगे तो हमें पता चलेगा कि इन सबके पीछे के कारण समाज में तेजी से बढ़ती जा रही नकारात्मक सोच है। यह भी सच है कि आपसी संवाद का सुगम व सरल होना समाज के विकास का आधार हैए परंतु अगर इस संवाद में समाज के एक पक्ष यानी नकारात्मकता को ही बढ़ा.चढ़ा कर दिखाते हैंए तो क्या समाज का विकास होगाघ् हमारे आस.पास का वातावरण सबसे अधिक अगर प्रभावित होता है तो वो हैए अखबार इंटरनेट टीवी और फिल्म इंडस्ट्री से। टैक्नोलॉजी का विकास निश्चित रूप से खूब हुआ है परंतु हमें सोचना पड़ेगा हमने टैक्नोलॉजी से संवाद का वातावरण पोजीटिव बनाया है या नेगेटिव। कभी.कभी यह भी लगता है कि शायद हम जन्म से ही नेगेटिव हैं तभी तो हमें एक व्यक्ति द्वारा किए गए सौ अच्छे काम कम और एक बुरा काम ही अधिक नजर आता है। शायद इसी मानसिकता को हमारे मीडिया ने आधार बनाकर अपने व्यवसाय को बढ़ाने की सोच रखी है। दूसरी तरफ यह भी सच है कि पोजीटिविटी के चिंतन से ही हमें ऊर्जा मिलती हैए मनोबल मिलता हैए खुशियां मिलती हैं और सच में श्रेष्ठ जीवन मिलता है।
कुछ समय पूर्व मुझे जापान रहने का अवसर मिलाए मैं सोचने लगा इस मुल्क की बेतहाशा तरक्की का आखिर कारण क्या है तो मैंने पाया वो सिर्फ एक ही है और वो है पोजीटिव थिंकिंग।
एक लम्बे समय बाद हम अपने कार्यों का परिणामों के आधार पर अवलोकन करने लगते हैं। एक सर्वे से यह भी पता चला कि वो अखबार लंबे समय में नकार दिए गए जो लम्बे समय से नेगेटिविटी को ही आधार मानकर चल रहे थे। वास्तव में हम सभी बढऩा चाहते हैंए प्रसन्नता चाहते हैं और भयमुक्त रहना चाहते हैं। इन दिनों प्रतिष्ठित अखबारों में पोजीटिविटी का ट्रेंड बढऩे लगा हैए कुछ पृष्ठ तो बस इस सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए ही रिजर्व कर दिए गए हैं। एक प्रतिष्ठित अखबार ने नो नेगेटिव न्यूज ऑन मंडे का विचार बना लिया है जो कि स्वागत योग्य कदम है।
कुछ लोगों का कहना है कि मीडिया का कार्य सत्य को समाज के सामने रखना है। परंतु हमें सबसे पहले सत्य को ही समझना होगा। अगर एक डॉक्टर अपने मरीज का सिटी स्कैन देखकर इतमिनान से मरीज के 10 दिन में मरने की घोषणा कर उसे तुरन्त प्रभाव से अवगत करा दे तो क्या यह सत्य हैघ् यह सत्य होते हुए भी सत्य नहीं हैए सत्य तो वह होता है जिससे स्वयं का कल्याण तो हो पर उससे पहले दूसरे का कल्याण हो और जो ईश्वर यानी ऊर्जा की तरफ ले जाने वाला हो। कभी.कभी तो चुप रहना भी सत्य की परिभाषा में आ जाता है। बियानी टाइम्स का नये कलेवर में पहला अंक 2 वर्ष पूर्व 1100 अखबार से आरम्भ किया गया थाए आज 30000 अखबार प्रतिमाह पाठकों के मध्य पहुच रहे हैं। गत दो वर्षों की यात्रा में हमने सदैव ऊर्जाए सकारात्मक सोच व ताजा खबरों पर ही पूरा ध्यान केंद्रित किया। इसी दिशा में पोजीटिव से मस्तिष्क को शक्तिशाली कैसे बनाऐंए यू केन सक्सीडए 360 व्यू ऑन योर करियर वॉय शूड आई से थैंक्यू और प्रेम और भावनाएं सर्वस्व हैं जैसे पॉजिटीव व प्रेरणादायक साहित्य समाज मे समर्पित किये गये हैं। पाठकों से गत दो वर्षो मे जो प्रेम और समर्थन मिलाए उसके लिए सह्रदय आभार प्रेषित करना चाहूंगा। पाठकों से अपेक्षा रहेगी कि अखबार के सम्बंध में अपना फीड बेक जरूर भेंजे।
आइये हम सब मिलकर पॉजिटिविटी की तरफ बढऩे का फैसला करें।
5 सितम्बर को शिक्षक दिवस हैए इस अवसर पर गुरू के रूप में अपनी मांए बाऊ जी व शिक्षकों को सह्रदय धन्यवाद देना ना भूलेंए क्योंकि पॉजिटिविटी को बढ़ाने का यह बेहतरीन अवसर है। प्रेमए स्नेह व शुभकामनाओं के साथ फिर मिलेंगे।

Dr. Sanjay Biyani(Dir. Acad.)
Share this on :

आरक्षण का लाभ शिक्षा में दिया जाए या नौकरी में दिया जाए या फिर राजनीति में दिया जाए

Share this on :


हाल ही में लाखों लोगों की भीड़ अहमदाबाद में इकट्टी हुई और पटेल पाटीदार आरक्षण का मुद्दा गुजरात में गरमाने लगा। इसके बाद पटेलों ने दांडी से साबरमती तक की विशाल रैली निकालने की सोची। कभी गुर्जर आरक्षणए कभी जाट आरक्षणए तो कभी मुस्लिम आरक्षण समय.समय पर ये सब आंदोलन के रूप में सुलगते रहे हैं। यह भी सच है कि अंग्रेजों ने लगभग 200 वर्षों तक हम लोगों पर शासन किया और समाज के लगभग सभी वर्गों ने जीवन में आर्थिक परेशानियों को इस दौरान महसूस किया है। शायद इसीलिए सभी लोग जल्दी से जल्दी किसी भी प्रकार से आर्थिक रूप से सुरक्षित हो जाना चाहते हैं। समाज का जो वर्ग जितना शोषित रहाए वह उतनी ही बड़ी आरक्षण की मांग रखने लगा। आरक्षण के मसले को समझना है तो हमें शुरुआत से समझना होगा। वेदों में उल्लेख मिलता है कि वर्ण का आशय रंग या त्रिगुण से है। पहला सफेद रंग सत्व गुण माना गया हैए दूसरा लाल रंग रज गुण माना गया है व तीसरा काला रंग तमस गुण माना गया है। समाज का वह वर्ग जिसने ज्ञान व ब्रह्म प्राप्ति को आधार बनायाए उसे ब्राह्मण कहा गया। ये सत्व गुण प्रधान थे। वह व्यक्ति जो नेतृत्व व सुरक्षा का कार्य देखते थे उन्हें क्षत्रिय कहा गया। ये रज गुण प्रधान थे। समाज का वह वर्ग जो व्यवसाय व प्रबंधन का कार्य देख रहे थे उन्हें वैश्य कहा गया तथा इनमें सत्व व रज दोनों गुण विद्यमान रहते हैं तथा कृषिए पशुपालन व सेवा का कार्य करने वाल शुद्र कहलाए । इनमें तमस गुण प्रधान रहा। इस प्रकार कर्म के आधार पर वर्ण व्यवस्था की गई थी। परन्तु समय बीतता गया और इंसान वर्ण को जाति में बदलता गया और आखिरी में इंसान ने वर्ण को कर्म बना दिया। वास्तव में अगर इतिहास को देखें तो चन्द्रगुप्त शूद्र जाति के होते हुए भी अपनी नेतृत्व क्षमता के कारण सम्राट बनाए गए। इसी प्रकार परशुराम ब्राह्मण होते हुए भी 21 बार क्षत्रियों का विनाश करते हैं। कहने का आशय यह है कि हर व्यक्ति में असीम क्षमताएं होती हैं। जरूरत इस बात की है कि शिक्षा के दौरान उसके स्वाभाविक गुणों का विकास किया जाये। हमारे संविधान द्वारा आज हर व्यक्ति को अपनी योग्यता के अनुसार अपना कॅरियर चुनने का विकल्प उपलब्ध है। परन्तु फिर भी संवैधानिक प्रावधान व राजनैतिक महत्त्वकांक्षाओं के कारण विद्यार्थी ना तो अपनी योग्यता का पता लगाना चाहता है और ना ही अपनी इन योग्यताओं को बढ़ाना चाहता है क्योंकि उसका पूरा ध्यान आरक्षण कोटे के द्वारा उपलब्ध नौकरी को प्राप्त करने में लग गया है। समाज के एक बड़े वर्ग द्वारा आरक्षण समाप्ति की बात की जा रही है तो किसी दूसरे वर्ग द्वारा आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को आरक्षण की बात की जा रही है। वास्तव में हमें सोचना होगा कि आरक्षण का लाभ शिक्षा में दिया जाए या नौकरी में दिया जाए या फिर राजनीति में दिया जायेघ् नौकरी व राजनीतिए योग्यता के आधार पर दिये जाने पर ही देश का समुचित विकास संभव है तथा योग्यता का निर्माण उचित शिक्षा प्रणाली से ही संभव है। कितना अच्छा हो कि समाज के सभी पिछड़े वर्गों के बच्चों को बेहतरीन शिक्षा प्रदान की जाए और इस काम के लिए उदारवादी तरीके से आरक्षण दिया जाये। जिस समय योग्य व्यक्तियों को योग्य काम मिलने लगेगाए देश के आर्थिक हालात बदलने लगेंगे। आरक्षण आंदोलन से सिर्फ समाज में कानून व्यवस्था ही खराब नहीं होतीए लोगों में द्वेष की भावना ही पैदा नहीं होती बल्कि अयोग्य व्यक्तियों द्वारा कार्य संभालने से देश की राजनीतिक व आर्थिक व्यवस्था भी चरमराने लगती है। अगर हम वास्तव में देश को विकसित राष्ट्र में बदलना चाहते हैं तो हमें उदारवादी नजरिये से हर युवाओं को योग्य बनना होगा और इसके लिए शिक्षा व्यवस्था में बदलाव लाना होगा। इस बात पर विश्वास करना होगा कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता। इसी प्रकार नौकरी व राजनीति में जातिगत आधार पर आरक्षण के मुद्दे पर पुनरू विचार करना होगा। इतना ही नहीं समाज को महिलाओं को भी समान अवसर उपलब्ध कराने होंगे। आइए आने वाले नवरात्रा में शक्ति का पूजन करेंए हांए हमें लगता है श्क्ति का आशय शारीरिक शक्ति से नहीं बल्कि इन भावनाओं की शक्ति से है। नवरात्र के अवसर पर सभी पाठकों को हार्दिक शुभकामनाएं प्रेम स्नेह व सम्मान के साथ फिर मिलेंगे।

Dr. sanjay Biyani(Dir. acad.)
Share this on :

पुरानी पीढ़ी द्वारा नई पीढ़ी के साथ जितना संवाद किया जायेगा बच्चों का जीवन उतना ही उन्नत खुशहाल और सुरक्षित बन जाएगा।

Share this on :

sss


आज की भागती दौड़ती जिंदगी मे सभी लोग व्यस्त दिखाई देते है। पेरेन्टस् जहाँ अतिरिक्त कार्य कर अधिक कमा लेना चाहते हैंए वहीं स्टूडेन्ट पढ़ाई के साथ.साथ अतिरिक्त कोचिंग कर भविष्य को निश्चित करने में लगे हैं। इसी तरह से हम सभी ने अपनी.अपनी प्राथमिकता तय कर रखी है। पेरेन्टस् और बच्चों मे संवाद की कमी बढ़ती जा रही है इस कारण बच्चों में चिड़चिड़ापनए कुण्ठा व हीन भावना उनके व्यवहार में स्पष्ट देखी जा सकती है। क्या कभी हमने सोचा है कि क्यों बढ़ती उम्र के बच्चे सोशल साईटस् पर अधिक समय बिताने लगे है। क्या कभी हमने सोचा है कि बच्चे अपनी गलतियों को क्यों छुपाने लगे हऔर बात.बात पर क्यों झूठ बोलने लगे हैंघ् क्यों बच्चे घर से अधिक बाहर के वातावरण में अधिक खुश रहने लगे हैं। साइकोलॉजिकली ऐसा देखा जाए तो इसके पीछे यह कारण स्पष्ट रूप से दिखता है कि घर के वातावरण में प्रेम व भावनात्मक लगाव की कमी के कारण बढ़ती उम्र के बच्चे इस कमी को बाहर के वातावरण में ढूंढने लगे हैं और शायद इसी कमी के कारण पेरेन्टस् भी ऐसा ही कर रहे हैं। इसी कारण सोशल मीडिया साइटस् पर 10 से 16 साल तक के 85 फीसदी बच्चों की पसंद व्हाटसएपए फेसबुकए गूगल प्लस जैसी सोशल साइटस् बन गई हंै। यह बात भी सत्य है कि हर व्यक्ति हर समय सोशल साइटस् पर अपडेट रहना चाह रहा है। एक बडा सच यह भी है कि आज तक जितने भी उपकरण विज्ञान ने बनाये हंै उनका मुख्य कारण मनुष्य के समय की बचत करना ही रहा है पर गौर से देखें तो सोशल साइटस् पर बढ़ती व्यस्तता ने लगभग हर व्यक्ति के समय को कम कर दिया है। सर्वे से यह बात भी सामने आई है अगर एक व्यक्ति कई घंटे तक मोबाईल पर व्यस्त रहता है तो उसके ब्रेन हेमरेज की संभावना बढ़ जाती है। साथ ही साथ मोबाईल के प्रयोग से रेडिएशन के कारण हमारे शरीर पर बहुत हानिकारक प्रभाव भी पड़ता है। इस बात में कोई अतिशयोक्ति नहीं है कि पुरानी पीढ़ी द्वारा नई पीढ़ी के साथ जितना सामाजिक . सांस्कृतिक संवाद किया जायेगाए बच्चों का जीवन उतना ही उन्नतए खुशहाल और सुरक्षित बन जाएगा। एक अध्ययन यह भी है कि सोशल मीडिया के कारण अधिकांश बच्चे साइबर क्राईम व लैगिंक शोषण के शिकार होते जा रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने स्वयं अपने बच्चों को फेसबुकए ट्वीटर से दूर रखा और मोबाइल का उपयोग शनिवार और रविवार को ही करने की इजाजत दी है। आइये हम सब लोग देखा.देखी के आधार पर घर से बाहर अतिरिक्त व्यस्तता व सोशल मीडिया पर अत्याधिक व्यवस्था को कम कर अपने समय को अपने बच्चों व परिवार के साथ बितायें ताकि बढ़ती उम्र के बच्चो में प्रेम व भावनात्मक असंतुलन को कम किया जा सके। बच्चों को सफल बनाने से भी अधिक आवश्यक है कि उन्हें अच्छा इंसान बनायें। यह समय बच्चों के कैरियर विषय को चुनने का भी है इस चुनाव में बच्चे की रूचि व कैरियर काउंसलर की सलाह ली जानी चाहिये।
हमारे जीवन में पिता की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। 21 जून को फादर्स डे पर हम सभी एक निश्चय करें कि इस दिन से हम सभी अपने पिता को सिर्फ पिता ही नहीं एक लाईफ कोच के रूप में मन से स्वीकार करें तथा इस अवसर पर उन्हें अपने हृदय से धन्यवाद देना ना भूलें। प्रेमए स्नेह व सम्मान के साथ।

Dr. Sanjay Biyani(Dir. Acad.)
May – Biyani Times Editorial
Share this on :