आज का विचार- ‘‘आकाश‘‘

आज का विचार है आकाश ।

आकाश यानि कि ‘‘विस्तार‘‘। आकाश यानि ज्ञान । मुझे लगता है हम आकाश के साथ जिस तरह पेश आते है। आकाश भी हमारे साथ वैसे ही पेश आता है। यदि हमें हमारे जीवन में विस्तार चाहिए, ज्ञान चाहिए, नई सोच चाहिए तो हमें आकाश के प्रति कृतज्ञ होना पड़ेगा। सूर्योदय के समय एवं सूर्यास्त के समय आकाश की ओर देखे एवं अपनी कृतज्ञता व्यक्त करे।

‘‘ज्ञान के विस्तार के लिए आकाश के प्रति कृतज्ञ बनें।‘‘

Sky

Today’s thought is ‘sky’. Sky means expansion. Sky means knowledge. I believe that the sky reciprocates our attitude towards it in the same coin. If we want to expand our horizons of knowledge and rational thinking, then we must express our gratitude towards the sky. We should do it every day at sunrise and sunset.

‘To expand the horizon of knowledge, be grateful to sky.’

Prof. Sanjay Biyani

आज का विचार-‘‘ईर्ष्या‘‘

 ईर्ष्या, यानि जलन हम सब को कभी ना कभी महसूस होती है, क्योंकि हमारे अन्दर अग्नि तत्व अशुद्ध हो गया है । हम अग्नि के प्रति अकृतज्ञ से हो गये है। मुझे लगता है अग्नि हमारे साथ ठीक वैसे ही पेश आती है जैसे हम अग्नि के साथ आते है। आप अग्नि (fire) यानि सूर्य के प्रति अपना (attitude)  बदलिए और अपने अन्दर पवित्रता उत्पन्न करिए।

                           ‘‘अग्नि के प्रति कृतज्ञता का भाव रखे‘‘।

Jealousy

Are we immune to jealousy? At some point in life, we feel the pangs of jealousy at other person’s achievement or well-being. It happens when the fire element in us turns impure due to our ingratitude towards it. This fire treats us the way we treat it. We must inculcate the attitude of gratitude towards fire, that is, Sun. We must purify our inner self.

‘Be grateful to fire.’

Prof. Sanjay Biyani              

आज का विचार – ‘‘धरती‘‘

नमस्कार दोस्तो,
धरती !
हमारे पूरे शरीर में 12 प्रतिशत धरती है। phosphorus, zinc, copper सब हमारे शरीर में है। ये 12 प्रतिशत धरती के तत्व हमारे साथ ठीक वैसे ही पेश आते है जैसे हम धरती के साथ पेश आते है। धरती पर नंगे पाँव चलिए । उसे महसूस करिए। उसके प्रति कृतज्ञ रहिए। मुझे लगता है कि ये धरती हमारे जीवन को बदल कर रख देगी।

‘‘धरती के प्रति कृतज्ञ बने‘‘।

                      Mother Earth

12% of our body is made up of Earth. Phosphorous, zinc, copper – all exist in our body. These elements treat us the way we treat our Mother Earth. Walk barefoot on Earth. Feel its touch. Be grateful to it. I believe Mother Earth can change our life.

Prof. Sanjay Biyani

आज का विचार ‘‘देश‘‘


नमस्कार दोस्तो,
देखिए, हम सब चाहते हैं कि हमारा देश महान बने। चाहते है ना! अगर हम चाहते हैं कि हमारा देश सचमुच महान् बने तो हमें यहाँ आदमी को महान बनने के अवसर देने होंगे और उन सब परिस्थितियों को बंद करना पड़ेगा जिसके कारण इंसान को बार-बार रोका जाता है।
‘‘देश को महान बनाने के लिए हर इंसान को महान बनना होगा‘‘।

                            Country

Good day friends,

We want to make our country great. Isn’t it? It can happen if wecreate opportunities to make every individual great. We must create conducive environment for unhindered progress of every human being.

To make country great, everybody will have to become great.

Prof. Sanjay Biyani 

आज का विचार-‘‘समझदारी‘‘

नमस्कार दोस्तो,

अगर कोई चीज हमें दर्द देती है तो वह दो चीज अपने साथ लेकर आती है। एक तो जख्म और दूसरी समझदारी। यह आप पर निर्भर करता है कि आप इनमें से क्या उठाते है। आप चाहे तो जख्मी हो.. आप चाहे तो समझदार हो…………….पर बात समझदारी से बनती है।

‘‘घाव से समझदारी ले, जख्म नही‘‘

Intelligence/Rationality

Good day friends,

Anything that gives pain brings with it two things: An injury and intelligence. What you pick up is your choice. Either get injured or get intelligent. However, intelligence is any day better.

Prof. Sanjay Biyani

आज का विचार- ‘‘ऊर्जा का प्रवाह‘‘

नमस्कार दोस्तो,

देखिए, इस दुनिया में सबसे बड़ी एक force जो काम करती है वह है, gravitational force  यह हर चीज को नीचे गिरा ही देती है, आप कुछ ना करें आप नीचे आ ही जाएंगे। आप कुछ ना सोचे आपको negative सोचना आ ही जाएगा। लेकिन ऊपर उठने के लिए positive सोचने के लिए, तरक्की करने के लिए अपनी ऊर्जा को नीचे से ऊपर उठाने की कला आपको सीखनी ही होगी………..

‘‘ऊर्जा को उठाने के लिए मनुष्य को प्रयास करने चाहिए‘‘

Flow of energy

A powerful force works round the clock. It is called the ‘gravitational force’. It pulls everything down.

Don’t do anything, and yet you’ll come down. Don’t think anything, and you’ll still get negative thoughts. To rise, progress and think positive, man must learn the art of taking his energies from bottom to the top.

Prof. Sanjay Biyani